दुनिया के 5 सबसे खतरनाक जीव

               दुनिया में कई तरह के जीव होते हैं । जिनके विषैलेपन का आपको अंदाजा भी नहीं होगा । कुछ जीव तो देखने में इतने सुंदर होते हैं कि जिनको देखकर कोई भी इस बात से नहीं मानेगा कि ये बेहद जहरीला भी हो सकता है । जिस तरह इस धरती पर जितने अलग तरह के इंसान रहते हैं, उतने ही अजीबो गरीब जीवों से भी ये सृष्टि भरी हुई है । कुदरत ने इस धरती पर मौजूद हर एक प्राणी को कोई ना कोई खास गुण जरूर दिये हैं । जहरीले जीव  इसी  का जीता जागता उदाहरण है । इसमें आपको दुनिया में पाए जाने वाले 5 जहरीले जानवरों के बारे में बताने जा रहे हैं । ये जहरीले जीव इतने खतरनाक होते हैं कि कुछ मिनटों में किसी भी इंसान को मौत की नींद सुला सकते हैं ।

1. मार्बल्‍ड कोन घाेंघा -(संगमरमरी शंकु घोंघा) (Marble Cone Snail)-

                      यह प्रजाति मार्बल शंकु घोंघा भारत के दक्षिणी सिरे से ओकिनावा, जापान और दक्षिण-पूर्व से न्यू कैलेडोनिया और समोआ तक पाया जाता है । घोंघे आम तौर पर जहरीले नहीं होते, लेकिन यह बात मार्बल्‍ड कोन घोंघे पर लागू नहीं होती है । यह जीव इतना विषैला होता है कि इसके जहर की एक बूंद से 20 मनुष्‍यों की जान जा सकती है और सबसे जरूरी बात यह है कि इसके जहर के को खत्‍म करने की अभी तक कोई दवा नहीं बनी है । जब यह अपने शिकार पर हमला करता है, कभी-कभी अपने शिकार पर कई बार हमला करता है । हमला करने के बाद शिकार को पहले अंधा होने लगता है, उसके बाद शरीर काम करना बंद कर देता है । बाद मे उसकी मौत हो जाती है ।

2. पफर मछली (Puffer Fish) –

              यह जापान, चीन, फिलीपींस और मेक्सिकों में पाई जाती है । पफर फिश पानी में तो किसी सामन्‍य मछली की तरह  तैरती है, लेकिन जैसे ही उसे पानी के बाहर निकाला जाता है, उसका आकार बदल जाता और वो गेंद की तरह गोल हो जाती । मजेदार बात ये है कि जैसे ही इसे दोबरा पानी में डाला जाता है, ये फिर मछली बन जाती है और किसी भी सामान्‍य मछली की तरह तैरने लगती है । इस मछली के भीतर साइनाइड से भी खतरनाक जहर होता है । ये मछली दिखने में बहुत ही सुंदर होती है । इसकी सुंदरता के बावजुद कोई भी इसे अपने घर में पालने की बात सपने में नहीं सोच सकता है । ये वैसे किसी को काटती नहीं है । लेकिन जब लोग इसे खाते है तो पकाने से पहले सावधानी के साथ सफाई की जाती है । ऐसा नहीं किया गया तो इंसान की मौत भी हो सकती है ।

3. जेलि‍फि़श (Jellyfish)

                    जेलीफिश को सबसे विषैला जीव माना जाता है ।  यह  एशिया और आस्‍ट्रेलिया के समुद्र में पाई जाती है । जेलीफिश करीब-करीब पारदर्शी होती हैा पानी में देखना इसे नामुमकिन सा होता है । जेलीफिश नाम का मतलब ये नहीं की यह कोई मछली की प्रजाति हैं । इसकी बनावट बॉक्‍स की तरह होता है । इसलिए इसे बॉक्‍स जेलीफिश भी कहते है । जेलीफिश को अमर माना जाता है, क्‍योंकि सबसे बड़ी बात यह है कि अगर जेलीफिश को दो भागों में बांट दे तो जेलीफिश मरती नहीं है । दोनों भागों से एक नई जेलीफिश का जन्‍म हो जाता है । जेलिफिश जब अपने को असुरक्षित महसूस करने पर अंधेरे में चमक बिखेरती है । इसका जहर इतना खतरनाक होता है कि एक डंक इंसान की मृत्‍यु के काफी है । हालांकि इसका शिकार सिर्फ समुद्र में जाने वाले लोग होते हैं ।

4. नीले धब्‍बे वाला ऑक्‍टोपस (Blue Ringed Octopus)-

                 यह आस्‍ट्रेलिया, जापान, इंडोनेशिया, फिलीपींस और पापुआ न्‍यू गिनी में पाया जाता है । ऑक्‍टोपस एक बुद्विमान प्राणी होता है । ऑक्‍टोपस में 3 दिल और 9 दिमाग होते है । इसकी 6 भुजाएं और 2 पैर होते है । ऑक्‍टोपस का खून लाल नहीं होता बल्कि नीले रंग का होता है । तांबे की उपस्थिति अधिक होने  के कारण इसका खून नीला होता है । इसको भूख लगने पर यह अपनी ही टांग को काट लेता है । यह खासियत यह है कि यह 1 घंटे में 170 से भी ज्‍यादा अपना रंग बदल सकता है ।

                    इस ऑक्टोपस का आकार टेबल टेनिस की बॉल के बराबर होता है । यह आसानी से मुट्टी में आ सकता है । यह एक छोटा प्राणी है । औसतन इसका वजन लगभग 100 ग्राम होता है, इसके शरीर की लंबाई 5-7 इंच से अधिक नहीं होती हैा इतना छोटा होने के बाद भी आप इसे हाथ में लेने की जुर्रत कभी ना करें, क्‍योंकि जहरिला और खतरनाक जीव हैं ।  यह इतना जहरीला होता है कि एक बार काटने से इंसान की मौत हो जाती है ।

5. डेथस्‍टॉकर बिच्‍छू (Deathstalker Scorpion)-

                    डेथस्‍टॉकर बिच्‍छू किसी भी अन्‍य प्रजाति के बिच्‍छू की तुलना में सबसे घातक जहर होता है । ये बिच्‍छू मध्‍य उत्तरी अफ्रीका और पूर्व एशिया में पाये जाते हैं । देखने में ये बिच्‍छू उतने जहरीले नहीं लगते हैं, लेकिन इसके डंक से इंसान सीधे मौत के दरवाजे पर पहुंच जाता है । एक बार इस बिच्‍छू के काटे जाने के बाद तेज दर्द पैदा करता है और कुछ ही मिनटों के भीतर श्‍वसन तंत्र को धराशायी कर देता है । आपको जल्‍द से जल्‍द चिकित्‍सा की तलाश करने की आवश्‍यकता होती है । उचित उपचार में देरी गंभीर मुद्दों और यहां तक मृत्‍यु का कारण बन सकती है ।

 

Leave a Comment

Your email address will not be published.