विवरण-

              शोएबिल पक्षी बहुत अजीब होता है। इस पक्षी की चोंच जूते की तरह दिखती है, इसलिए इसका नाम शोएबिल पडा। इस को सारस भी कहा जाता है, आनुवंशिक रूप से बगुला परिवारों से अधिक निकट संबंधित है।   सिर के पीछे एक ही छोटी शिखा होती है और एक नुकीली कांटेदार जीभ होती है, जिसका उपयोग वे भोजन को अपने बिल में रखने और खींचने के लिए करते हैं।  शुबिल (Shoebill) को व्हेलहेड या शुबिल्ड स्टार्क के नाम से भी जाना जाता है | यह बहुत ही लम्बे समय तक एक ही अवस्था में रह सकते हैं। इसके कारण इसे Statue Like Bird कहा जाता है।

                इस पक्षी की औसत लम्‍बाई 5 फुट 4 इंच होती है । इसकी चोंच 9 इंच लम्बी और 4 इंच चौड़ी होती है। शोएबिल का शरीर नीले-भूरे पंख से ढका हुआ होता है। गर्दन बहुत मजबूत, पैर लंबी होते हैं और इसके पंख चौड़े होते हैं। इस पक्षी की फड़फड़ाने की दर लगभग 150 फ्लैप प्रति मिनट है जो किसी भी पक्षी की तुलना में सबसे धीमी है। शुबिल का वजन 5 किलोग्राम होता है। इस पक्षी के चौड़े पंख एक सिरे से दुसरे सिरे तक 2.5 मीटर तक फैले हो सकते हैं।  शुबिल (Shoebill) की आयु 35 वर्षो तक की होती है। नर मादा से बड़े होते हैं और उनके बिल लंबे होते हैं।

भोगोलिक-

                शोएबिल (Shoebill) पूर्वी अफ्रीका से सूडान से जाम्बिया तक देखे जाते हैं।  इसमें से ज्यादातर सूडान,  ईस्टर्न डेमोक्रेटिक रिपुब्लिक ऑफ़ कांगो और जाम्बिया में पायी जाते हैं। शोएबिल (Shoebill) को धीमी चाल और गतिविधियों के लिए पहचाना जाता है।  विश्व में इसकी जनसख्या लगभग 5,000 से 8,000 है। यह इंसान द्वारा परेशान किये जाने के प्रति बहुत संवेदनशील होती है । जैसे ही वह देखती है कि उसके घोंसले के आस-पास मानव का आना जाना है, तो वह घोंसले को छोड़ कर चली जाती है |

संभोग प्रणाली

                 यह पक्षी तीन से चार साल की उम्र में परिपक्वता तक पहुंचते हैं। शोएबिल सारस एकान्त प्रजनक होते हैं और इनका क्षेत्रफल लगभग 3 वर्ग किलोमीटर तक होता है। घोंसले के निर्माण से लेकर प्रजनन चक्र तक का समय 6 से 7 महीने की अवधि में होता है। घोंसला या तो एक छोटे से द्विप पर या तैरती हुई वनस्पति के द्रव्यमान पर स्थित होता है। घोंसले की सामग्री जैसे घास को जमीन पर बुना जाता है, जिससे लगभग 1 मीटर व्यास की एक बड़ी संरचना बनती है। ये पक्षी प्रकृति में बहुत अकेले हैं और यहां तक ​​​​कि संभोग करने वाले जोड़े भी अपने क्षेत्र के विपरीत किनारों पर भोजन करते हैं।  प्रजनन जोड़े पानी पर या तैरती वनस्पतियों पर घोंसले बनाते हैं और आठ फीट तक चौड़े हो सकते हैं ।

प्रजनन

                  मादा दो से तीन अंडे देती है। अंडे शुरू में चाकलेटी नीले-सफेद होते हैं। यह पक्षी अपने बच्चो का बहुत ध्यान रखती है। बच्चा जब जन्म लेता है तो ढाई महीने तक अपने पैरो पर खड़ा नही हो पाता है। चूंकि गर्मी उसके अंडों और बच्चों के लिए एक बड़ा खतरा है,  जिससे उसके घोंसले के ऊपर पानी की बौछार की जाती है। घोंसले को शिकारियों द्वारा अंडे ले जा सकते हैं, लेकिन शोबिल सारस आक्रामक रूप से अपने बच्‍चों की रक्षा करते हैं। आमतौर पर केवल एक चूजा ही बच पाता है। मजबूत चूजा अपने कमजोर भाई-बहनों को डराते रहते हैं और उन्‍हें भोजन के वंचित कर देते हैं। कभी-कभी भोजन नहीं मिलने पर सीधे मार देते हैं।

माता-पिता बारी-बारी से चूजों को मसला हुआ खाना खिलाते हैं। एक महीने की उम्र तक पहुंचने के बाद  माता-पिता युवा पक्षियों को निकलने के लिए घोंसले में शिकार की कुछ चीजें छोड़ना शुरू कर देते हैं। चूजों को दिन में कम से कम 1 से 3 बार और चूजे के बड़े होने पर प्रतिदिन 5 से 6 बार तक खिलाना जाता है। अधिकांश अन्य पक्षियों की तुलना में शोएबिल सारस का विकास एक धीमी प्रक्रिया है। पंख लगभग 60 दिनों तक पूरी तरह से विकसित नहीं होते हैं और पक्षी 95 दिनों में भाग जाते हैं। हालांकि युवा होने पर 105 से 112 दिनों तक उड़ान नहीं भर सकते। इसके बच्‍चों के भाग जाने के बाद भी माता-पिता लगभग एक महीने तक बच्चों को खाना खिलाते रहते हैं। इस प्रक्रिया के बाद युवा शोबिल सारस अपने माता-पिता से पूरी तरह स्वतंत्र हो जाते हैं।

शिकार

                   यह पक्षी भले ही अजीब लगे, लेकिन इसकी चोंच कोई मजाक नहीं है।  अपने शिकार को काटने के लिए काफी तेज हैं।  यह अलग अलग तरह की मछली,  एम्फीबियंस,  गिरगिट,  साँप, चूहा और यहाँ तक की मगरमच्छ के बच्चों को भी खा जाती है | जब यह अपने शिकार को देखती है तो उसे पकड़ने के लिए आश्चर्यजनक रफ्तार से शिकार की ओर बढ़ती है | शिकार बचने की कोशिश करें,  उससे पहले ही अपने नुकीले चोंच से उसे आधे-आधे टुकड़े में बाँट देती है | यह पक्षी दिन में शिकार करते हैं,  हालांकि कभी-कभी रात में भी शिकार करते हैं। यदि चांदनी पर्याप्त उज्ज्वल है।

व्यवहार

                शोएबिल सारस समूहों में कभी नहीं पाए जाते हैं।  अक्सर, एक प्रजनन जोड़ी के नर और मादा अपने क्षेत्र के विपरीत किनारों पर भोजन करते हैं।  यह प्रथा क्रूर चील के बीच भी होती है।

सरक्षंण

                   इस पक्षी को खतरा काफी हद तक मनुष्यों से है। इसके निवास स्थान नुकसान का बड़ा खतरा है, चूंकि भूमि को चारागाह के लिए काम में लिया जाना और कभी-कभी मवेशी घोंसलों पर रौंद देते है।  कुछ जगहों पर शूबिल का शिकार भोजन के रूप में किया जाता है।  उन्हें अपशकुन भी माना जाता है। उनके दलदल को तेजी से कृषि भूमि और पशु चराई में परिवर्तित किया जाना।  चिंता का एक विषय यह भी है कि चिड़ियाघर का व्यापार है। चिड़ियाघरों में शोएबिल सारस की मांग बहुत अधिक है।  ये चिडि़याघरों में  7 लाख् से 15 लाख तक बेचे जाते हैं, जिससे ये चिड़ियाघर के व्यापार में सबसे महंगे पक्षी बन जाते हैं।  इस कारण देशी लोगों को इन पक्षियों को पकड़ने और चिड़ियाघरों को बेचने के लिए प्रोत्साहित मिलता है।  इस कारण शुबिल की जंगली आबादी को कम करता है। इस असामान्य पक्षी को प्रकृति के संरक्षण के लिए अंतर्राष्ट्रीय संघ (आईयूसीएन) द्वारा कमजोर के रूप में वर्गीकृत किया गया है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *